आतंकवाद

वैश्विक आतंकवाद: एक लाइलाज बीमारी

– योगेन्द्र भारद्वाज विश्व के महापुरुषों ने अपनी अपनी संस्कृति को सर्वोत्कृष्ट रखने का प्रयत्न किया था, जिसमें भारत ने विश्वगुरू की उपाधि भी धारण की। लेकिन आज समग्र जगत एक ऐसी बीमारी का शिकार हो रहा है, जिसकी समाप्ति अत्यन्त दुष्कर है। यह बीमारी लाइलाज है और वैश्विक महामारी का रूप ले चुकी है।
Read More

“जिहाद और इस्लामी-फासीवाद से सख़्ती से निपटने की जरुरत”

–तारेक फ़तह (@TarekFateh) देखिए साहब, धर्मों में सुधार की बातें तब होती हैं जब धर्म-प्रमुख देशों को चलाते हैं. अब यहां न तो संयुक्त राज्य अमेरिका को कोई पोप चला रहे हैं और न ही भारत को कोई पंडित. ये वो समय नहीं है जब किसी धर्म में सुधार किया जाए या हम सुधार के
Read More