अन्नाद्रमुक

लोगों के दिलों पर राज करती थीं जयललिता

-संजय मेहता (@JournalistMehta)   आज के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में राजनीतिक दलों एवं नेताओं पर लोगों का अविश्वास बढ़ा है। अविश्वास के इस दौर में ऐसे बहुत कम नेता हुए जिन्होंने लोगों के दिलो को जीता। जयललिता के समर्थक जान देने को तैयार रहते थे। उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि
Read More

विलोम का विराट बन जाना

-सत्येंद्र रंजन  (@SRanjan19) ऐतिहासिक दृष्टि से देखें तो जयललिता जयराम द्रविड़ राजनीति का विलोम थीं। बीसवीं सदी के आरंभ के साथ आगे बढ़े द्रविड़ आंदोलन का मूल स्वर ब्राह्मणवाद विरोधी था। इसने हिंदी विरोधी तेवर अपनाया। तमिल भाषा और संस्कृति के गौरव पर जोर दिया। ई.वी. रामास्वामी नायकर पेरियार, सी.एन, अन्ना दुरै, एम करुणानिधि और
Read More