बिश्वजीत मुखर्जी

जयंती विशेष-14 साल में 'राज' की राइफ़लों से भरी बैलगाड़ी लूटने वाले 'लम्बोदर मुखर्जी'

ज़िंदगी में स्वतंत्रता सबसे महत्वपूर्ण होती है या यूँ कह लें, स्वाधीनता जीवन का मूल अर्थ है। मगर हमारे देश का इतिहास दो सौ सालों की पराधीन दासता को बयां करता है। साल 1947 में हमारा भारत देश दो सदियों की गुलामी की जंजीरों से आज़ाद हुआ। उस वर्ष 15 अगस्त वह दिन था जब
Read More